उत्तर प्रदेश टिम्बर एसोसिएशन ने मनाया काला दिवस

उत्तर प्रदेश टिम्बर एसोसिएशन ने मनाया काला दिवस
लखनऊ। दिनांक 16 अप्रैल 2022 को उत्तर प्रदेश टिम्बर एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष मोहनीश त्रिवेदी व प्रदेश सलाहकार आसिम मार्शल के नेतृत्व में 16 अप्रैल 2017 को सम्पूर्ण उत्तर प्रदेश में बुलडोजर से सैकड़ों पुश्तैनी टिम्बर व्यापारियों के भविष्य को उजाड़ दिए जाने की 5वीं बरसी के रूप में काला दिवस मनाया गया। मोहनीश त्रिवेदी ने बताया कि संगठन पिछले पांच वर्षों से अपने स्थापना दिवस को ही काला दिवस के रूप में मनाता चला आ रहा है क्योंकि पांच साल पहले पुश्तैनी टिम्बर व्यापारियों के साथ हुए अन्याय के दिन ही न्याय हेतु संघर्ष करने के लिए इस संगठन की स्थापना हुई थी। त्रिवेदी ने बताया कि आज संगठन द्वारा सम्पूर्ण उत्तर प्रदेश के पीड़ित टिम्बर व्यापारियों व पदाधिकारियों ने ज़ूम मीटिंग के माध्यम से सर पर काली पट्टी बांध कर सरकार द्वारा पांच साल पहले की गई एक तरफा व अन्यायपूर्ण कार्यवाही के विरोध में काला दिवस मनाया व नई सरकार से अपील की गई कि वन विभाग की स्थापना से पूर्व व बाद के उन पुश्तैनी टिम्बर व्यापारियों को लाइसेंस दिया जाए जिनके पक्ष में सर्वोच्च न्यायालय ने 5/10/2015 को मुकदमा संख्या 202/1995 के अधीन राज्य सरकारी व एसएलसी को काष्ट आधारित उद्योग को बढ़ावा देने हेतु आदेश दिया था परन्तु वन विभाग द्वारा मन मर्जी से सरकार व सर्वोच्च न्यायालय को गुमराह करते हुए पुश्तैनी व पहले से टिम्बर व्यापार करने वालो की जगह तथाकथित ई लॉटरी के माध्यम से नए, अनुभवहीन व एसएलसी के सदस्यों को ही लाइसेंस दे दिए गए थे। वहीं आसिम मार्शल ने बताया कि उत्तर प्रदेश टिम्बर एसोसिएशन विगत पांच वर्षों से पीड़ित टिम्बर व्यापारियों को लाइसेंस दिलवाने हेतु संघर्ष करता चला आ रहा है जिसके चलते 16 अप्रैल 2018 को सरकार के खिलाफ ऐशबाग में काला गुब्बारा उड़ा कर काला दिवस मनाने पर प्रदेश अध्यक्ष मोहनीश त्रिवेदी को पुलिस ने गिरफ्तार तक कर लिया था पर तमाम समस्याओं के बावजूद उन्होंने अपना संघर्ष जारी रखते हुए लखनऊ में दर्जनों धरने के साथ ही वन मंत्री का घेराव व दिल्ली के जंतर मंतर पर प्रदेश व्यापी प्रदर्शन के माध्यम से प्रधानमंत्री जी को मन का दर्द नाम से ज्ञापन तक सौंपा साथ ही एनजीटी में मुकदमा लड़ के ई लॉटरी को खारिज करवाने का काम किया। प्रदेश महामंत्री नदीम अहमद ने बताया कि संगठन के खिलाफ राज्य सरकार व ई लॉटरी के पीड़ित साथी सर्वोच्च न्यायालय में केस लड़ रहे है जिसकी सुनवाई जारी है परन्तु सरकार चाहे तो पुश्तैनी टिम्बर व्यापारियों व ई लॉटरी के पीड़ितो को न्याय दे सकती है। ज़ूम मीटिंग में मुख्य रूप से विधि सलाहकार शिवम् पांडेय,संरक्षक अख्तर खान, अयोध्या के ठाकुर प्रसाद,अम्बेडकर नगर के राकेश वर्मा,अमरोहा के सरफराज हुसैन, मोहमद रजा,दिलशाद त्यागी,राजा, शुजाउद्घिन सहित सैकड़ों पदाधिकारियों ने अपने अपने विचार रखे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *