ओके क्रेडिट ने ओके शॉप नाम की ऑनलाइन शॉप लॉन्च की

ओके क्रेडिट ने ओके शोप नाम की ऑनलाइन शॉप लॉन्च की

लखनऊ। यह साल वैश्विक महामारी के साथ ही छोटे व्यवसायों के लिए चुनौतीपूर्ण रहा है, जो इसके माध्यम से जीवित रहने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। छोटे व्यवसायों को विकसित करने और उन्हें सशक्त बनाने में मदद करने के उद्देश्य से, ओकेक्रेडिट उर्फ ‘डिजिटल इन्डिया का डिजिटल बहिखाता’ अब इस दिवाली चंदेरी कारीगर समुदाय के बीच थोड़ा उत्सव का आनंद फैलाने के लिए उन्हें ले लिया है।ओकेक्रेडिट, सरल और आसानी से उपयोग किए जाने वाले उत्पाद बनाकर छोटे व्यवसायों को सशक्त बनाने की अपनी प्रतिबद्धता को जारी रखते हुए, ओकेशोप – आपकीअपनी ऑनलाइन शोप शुरू करने की तैयारी कर रहा है। ओकेशॉप सभी छोटे व्यवसायों को दो आसान चरणों में अपनी ऑनलाइन उपस्थिति स्थापित करने की अनुमति देकर व्यापार करने में आसानी प्रदान करता है। यह व्हाट्सएप पर छवियों, विवरणों और पुरस्कारों, सुरक्षित ऑनलाइन भुगतान और आविष्कारों और ऑफ़र के आसान साझाकरण विकल्प के साथ उत्पादों के कैटलॉग बनाने में मदद करता है। विक्रेता अपनी स्टॉक उपलब्धता के अनुसार सूची से जोड़ या हटा सकते हैं। यह स्थानीय विक्रेताओं को इस ट्रुली मेड इन इंडिया ऐप की मदद से डिजिटल बिजनेस प्रो की तरह चलने में सक्षम बनाता है।

इस लोन्च अभियान के बारे में ओकेक्रेडिट के को-फाउन्डर और सीईओ  हर्ष पोखर्णा ने कहा, की हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सही कहा है, इन कठिन समयों में हमने अपने देश की सभी स्थानीय दुकानों और व्यवसायों के महत्व को महसूस किया है, और भारतीय डिजिटल अर्थव्यवस्था के लिए एक आवाज लाने में सक्षम होना चाहिए। ओकेशोप उन्हें डिजिटल सशक्तिकरण के लिए एक मंच प्रदान करता है, और इस वर्ष के दिवाली अभियान छोटे व्यापारियों के लिए इस चुनौतीपूर्ण स्थिति के दौरान उनके निस्वार्थ समर्थन के लिए आभार और प्रशंसा दर्शाता है; हमें उम्मीद है कि हम चंदेरी समुदाय में बदलाव ला सकते हैं।”

राष्ट्र की सामान्य दृष्टि के साथ- ‘वोकल फॉर लोकल’, ओकेशोप ने अपना पहला अभियान ‘चंदेरीकीदिवाली’ शुरू किया। इस अभियान के साथ ओकेशोप 3000+ से अधिक लूम्स पर बढ़ रहा है, और चंदेरी के 6000+से अधिक बुनकर एक संस्कृति को विकसित करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं और महामारी के बाद एक स्थायी व्यवसाय बनाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। यह अवसर अब बुनकरों को अपनी बिक्री बढ़ाने और पूरे भारत में अपने उत्पादों की उच्च दृश्यता प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहन प्रदान करने के साथ-साथ सीधे उनकी क्षमता तक पहुंचने में सक्षम बनाएगा। इससे जुड़ा कोई आयोग नहीं है, इसलिए बुनकर अपने उत्पादों को मुफ्त में ग्राहकों को बेच सकते हैं। ओकेक्रेडिट ने अपने उत्पादों को जोड़ने और ग्राहकों से सीधे खरीदने के लिए बुनकरों के लिए एक विशेष वेबसाइट भी शुरू की है : http://chanderi.okshop.in/चंदेरी समुदाय को सरकार और स्थानीय अधिकारियों से भी बहुत समर्थन मिला है, और बुनकरों को नवाचार करने और भारत की डिजिटल अर्थव्यवस्था में योगदान देने की दिशा में आगे कदम बढ़ाने के लिए पहले 100% मुफ्त वाई-फाई समुदाय में से एक है। डिजिटल सशक्तीकरण का नेतृत्व करने के लिए और उस तरह से छोटे भारतीय व्यवसायों को विकसित करने के लिए ओकेशोप के माध्यम से ओकेक्रेडिट का लक्ष्य आत्मनिर्भर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *