अमेज़न इंडिया ने गरीब बच्चों के लिए किया डिलीवरिंग स्माइल्स प्रोग्राम की घोषणा

अमेज़न इंडिया ने गरीब बच्चों के लिए किया डिलीवरिंग स्माइल्स प्रोग्राम की घोषणा

मुम्बई। अमेज़न इंडिया ने वैश्विक महामारी के इस संकट में ऑनलाइन शिक्षा के लिए कम आय और कम-सुविधा वाले छात्रों के बीच स्मार्ट डिवाइसेज के लिए तत्काल आवश्यकता को पूरा करने के लिए ’डिलीवरिंग स्माइल्स’ प्रोग्राम की घोषणा की। किसी डिवाइस को उपहार में देने की पेशकश करते हुए, यह प्रोग्राम भारत भर के कस्टमर्सके लिए इस उद्देश्य से जुड़ना संभव बना देगा, और साथ ही, प्रसिद्ध एनजीओ के माध्यम से भागीदारी करके इस छोटेयोगदान को भी संभव बनाएगा ||
जरूरतमंद बच्चों की मदद करने के लिए, अमेज़न सरकार और सहायता प्राप्त स्कूलों और चाइल्ड सेंटर्स के साथभागीदारी करने वाले 18 एनजीओ को सीधे5,000 से अधिक 4जी-एनेबल्ड टैबलेट कंप्यूटर दान करते हुए डोनेशन कैम्पेन शुरू करेगा। कस्टमर्स 10,000रुपये के रेंज में अमेज़न के गिफ्ट ए स्माइल पेजपर मौजूद एनजीओ विशलिस्ट के आधार पर मोबाइल फोन और एंड्रॉइड कंप्यूटर गिफ्ट करने में सक्षम होंगे, या “डोनेशंस”बटन पर क्लिक करके डिवाइसेज के लिए अमेज़न पे के माध्यम से धनराशि का योगदान कर सकते हैं। इस पहल का समर्थन करने के लिए साथ आने वाले प्रमुख एनजीओ में प्रथम एजुकेशन फाउंडेशन, इंडिया स्टेम फाउंडेशन और पीपुलेयर शामिल हैं।लंबे समय से चल रहे अमेज़न गिफ्ट –ए- स्माइल प्रोग्राम के साथ ही यह प्रोग्राम शुरू किया गया है, जहां कस्टमर्स 50से अधिक विभिन्न मुद्दों का समर्थन करने वालेएनजीओ में योगदान देकर स्थिति को बेहतर बना सकते हैं। इन मुद्दों में हेल्थकेयर और न्यूट्रिशन, सीनियर सिटिज़न्स, महिलाओं और लड़कियों के सशक्तिकरण, शिक्षा, दिव्यांग जनों की देखभाल से लेकर आपदा और महामारी और कौशल तथा आजीविका तक के विभिन्न मुद्दे शामिल हैं। कस्टमर्स गिफ्ट ऑन ए स्माइल पेज (डिवाइसेज कैंपेन सहित) पर एक उद्देश्य का चयन कर सकते हैं, और अपनी जरूरत की चीजों की सूची देखने के लिए एक एनजीओ का चयन कर सकते हैं। इसके बाद, वे कार्ट में एक या एक से अधिक आइटम जोड़ सकते हैं और एनजीओ के पते पर (ऑर्डर देते समय स्वचालित रूप से उपलब्ध) डिलिवरी के लिए ऑर्डर कर सकते हैं ।अमेज़न को एक संदेश केमाध्यमसे केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने कहाकि ”कोविड-19 महामारी का हमारे जीवन पर गहरा असर पड़ रहा है। जहां इस संकट के कारण अभूतपूर्व चुनौतियां सामने आई हैं, वहीं यह प्रसन्नता की बात हैकि अमेज़न इंडिया डिलीवरिंग स्माइल्स जैसी पहलों के माध्यम से अपनी प्रतिबद्धताओं को आगे बढ़ाते हुए, कम आय और वंचित वंचित समुदायों के छात्रों की तात्कालिक जरूरतों को पूरा करने के लिएशिक्षा के साधन प्रदान कर रहा है। इस तरह की पहल समय की आवश्यकता को पूरा करती हैं और यह कई छात्रों को अपनी शिक्षा ऑनलाइन जारी रखने में मदद करेगी।”‘डिलीवरिंग स्माइल्स’ पहल के बारे में, Amazon.in के वीपी, मनीष तिवारी ने कहा कि “महामारी के कारण इस साल हजारों बच्चों की शिक्षा में रूकावट पैदा हुई है और कम आय वाले समुदायों के बच्चे बहुत बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं। इनमें से 20% से कम बच्चों के पास ऑनलाइन शिक्षा के लिए डिवाइसेजहैं, और शेष छात्रों की मदद करने के लिए हम सभी के सामूहिक प्रयास की आवश्यकता है। इस ‘डिलीवरिंग स्माइल्स’अभियान के जरिये, हर कोई आसानी से योगदान दे सकता है, और समाज में प्रभावी भूमिका निभाने वाले, विश्वसनीय संगठनों के साथ व्यापक स्तर पर प्रभाव पैदा कर सकता है। हमें उम्मीद है कि अमेज़न का 5,000डिवाइसेज का योगदान हमारे कस्टमर्स के समर्थन से एक राष्ट्रीय आंदोलन बनेगा।”आकांक्षा फाउंडेशन के सी.ओ.ओ राहुल गुप्ता ने कहाकि “हम ऐसे हजारों बच्चों के साथ सार्वजनिक शिक्षा प्रणाली में काम करते हैं, जिनके कई बच्चों के माँ-बाप अपनी आजीविका खो चुके हैं। भले ही दूरस्थ शिक्षा अल्पावधि वाली हो, लेकिन हाइब्रिड लर्निंग सिस्टम की तरफ होने वाला एक मौलिक बदलाव है और आकांक्षा में हम स्कूलों के फिर से खुलने के बाद भी, डिजिटल डिवाइसेज के माध्यम से ब्लेंडेड शिक्षण को एक दीर्घकालिक समाधान के रूप में देखते हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *